Search This Blog

03 June, 2011

कइयों को सुखी कर जाऊंगा

मार दिया जाऊंगा
कि मर जाऊंगा
इतना तय है
कइयों को सुखी कर जाऊंगा
खतम हो जाएंगे
मेरे होने के
कई दुख मेरे साथ ही
खुलकर हंसेंगे कई चेहरे
बोलेंगे खुलकर
सोचेंगे खुलकर
कितनों को दे जाऊंगा
एक नया जीवन
मैं मरकर
नहीं कोई आरोप मेरा
किसी पर
जानता, मानता हूं
खड़ा रहा हूं जीवन भर
सब के कटघरे में
आरोपित होकर
पढी हैं सबकी भावनाएं
मेरे लिए मनोकामनाएं
व्यर्थ है कोई भ्रम पालूं
अब कहां रहा माद्दा
कि खुद को संभालूं
सारी दुश्वारियों, बीमारियों के बीज
मैने खुद ही तो बोए हैं
अच्छी तरह जानता हूं
मेरे जन्म की खुशी में
थाली बजानेवाले
मेरे मर जाने के दु:ख में
कितना रोए हैं

3 comments:

  1. लगता है कुछ आखिर की पंक्तियाँ दो बार लिख दी गयी हैं ...

    कविता मर्म को छूती है .. कटु सत्य को कहती अच्छी रचना

    ReplyDelete
  2. आपकी रचना यहां भ्रमण पर है आप भी घूमते हुए आइये स्‍वागत है
    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. आपने सच कहा संगीता जी! अंतिम पंक्ति से पहले कुछ पंक्तियां दोबारा पेस्ट हो गयी थी..गंभीर त्रुटि है, क्षमाप्रार्थी हूं..आभार आप जैसे सजग पाठक का

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...